जीवन की सभी समस्याओं का ज्योतिषीय समाधान

Balaji Jyotish Sansthan

Know About Us

सुभाशीष गुरूजी

[वैदिक ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद्]

बालाजी ज्योतिष संसथान (दिल्ली) बालाजी ज्योतिष संसथान की स्थापना 1995 के वर्ष में की गई थी। 10 साल पहले, यानी 1985 में, पंडित रोशन लाल शर्मा जी ने दिल्ली में शिन्धोरा कला में भगवान शिव मंदिर की नींव रखी थी। बालाजी ज्योतिष संसथान की स्थापना के पीछे एकमात्र उद्देश्य एस्ट्रोफिजिक्स (खगोल भौतिकी) पर लोगों में सामान्य जागरूकता पैदा करना है, और नए युग की युवा पीढ़ी को अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए ज्योतिष की शक्ति सीखने में मदद करना है। आदरणीय पंडित रोशन लाल शर्मा जी के छोटे पोते, आदरणीय सुभाशीष जी ने ज्योतिष और एस्ट्रोफिजिक्स (खगोल भौतिकी) के क्षेत्र में संस्थान के रुतबे को आगे बढ़ाया हैं।

More Info

Our Latest Video

Get in Touch



Latest Blogs

शकट योग - लग्न तथा सातवें घर में सभी  ग्रह हों, तो जातक किसी भी व्यक्ति से काम निकालने में चतुर गिना जाता है। पक्षी योग - चौथे तथा 10वें स्थान में सभी ग्रह हों,…
read more
सन्तानहीन योग पंचमेश नीच का हो। पंचमेश तथा सप्तमेश नीच के हों। तृतीयेश और चन्द्रमा 1, 4, 6, 10वें स्थान पर हों। बुध और लग्नेश लग्न के अलावा अन्य स्थानों पर हों। 5, 8 या…
read more
विवाह योग सप्तम भाव शुभ हो तथा सप्तमेश बली हो। शुक्र स्वगृही या कन्या राशि का हो।। द्वितीयेश और सप्तमेश 1,4,7, 10 स्थानों पर हों। लग्नेश लग्न में या द्वितीय भाव में हो। सप्तम स्थान…
read more

YEARS OF EXPERIENCE

KUNDALI SERVED

VASTU NIVARAN

WINNING AWARDS

Testimonial

error: Content is protected !!
Scroll Top